Apni Pathshala

France Election 2024: फ्रांस के चुनाव में इमैनुएल मैक्रों (Emmanuel Macron) की हार, जानिए क्या है चुनाव की प्रक्रिया?

France Election 2024

France Election 2024 में वामपंथी न्यू पॉपुलर फ्रंट गठबंधन ने दक्षिणपंथी नेशनल रैली (RN) के बहुमत हासिल करने की उम्मीदों को ध्वस्त कर दिया है। साथ ही इमैनुएल मैक्रों की पार्टी को भी भारी नुकसान का सामना करना पड़ा है।

France Election 2024 चर्चा में क्यों है:–

  • रविवार को France Election 2024 के नतीजे घोषित हो चूके है जिसमें राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों (Emmanuel Macron) की पार्टी को हार का सामना करना पड़ा है।
  • सोमवार को आए आंकड़ों के मुताबिक, फ्रांस में कुल 577 सीटों पर मतदान हुआ था। इनमें से वामपंथी न्यू पॉपुलर फ्रंट गठबंधन को 182 सीटें मिलीं।
  • दूसरे नंबर पर इमैनुएल मैक्रों (Emmanuel Macron0) की रेनेसां पार्टी रही, रेनेसां केवल 163 सीटें ही जीत पाई। वहीं, दक्षिणपंथी नेशनल रैली (NR) गठबंधन को 143 सीट हासिल करने में कामयाब रही।
  • चुनाव परिणाम आने के बाद हार की जिम्मेदारी लेते हुए PM गैब्रियल अट्टल ने इस्तीफे की पेशकश की है।
  • नतीजों के बाद हिंसा भड़क गई। दक्षिणपंथी नेशनल रैली के लोग सड़क पर आ गए और प्रदर्शन करने लगे

कैसे होता है France में प्रधानमंत्री का चुनाव:–

  • भारत की तरह फ्रांस में भी संसद के 2 सदन हैं।
  • संसद के उच्च सदन को सीनेट (Senate) और निचले सदन को नेशनल असेंबली (National assembly) कहा जाता है।
  • नेशनल असेंबली के सदस्यों को जनता, जबकि सीनेट के सदस्यों को नेशनल असेंबली के सदस्य और अधिकारी मिलकर चुनते हैं।
  • फ्रांस में चुनाव 2 चरणों में होते हैं। पहले चरण में सभी 577 सीटों पर चुनाव होता है।
  • यदि कोई उम्मीदवार पूर्ण बहुमत (कम से कम 25% Vote के साथ 50% से अधिक Vote) प्राप्त करता है तो उसकी जीत मान ली जाती है लेकिन अगर किसी भी उम्मीदवार को बहुमत नहीं मिलता है तो दूसरे चरण का चुनाव होता है।
  • दूसरे चरण में वही उम्मीदवार हो सकता है जिसे पहले चरण में 5 प्रतिशत से ज्यादा वोट मिले हो।
  • इसके बाद जीती हुई पार्टी या गठबंधन के नेता को राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री पद के लिए नियुक्त करता है।
  • फ्रांस में प्रधानमंत्री का पद राष्ट्रपति के बाद दूसरा सबसे शक्तिशाली पद होता है।
  • यहां प्रधानमंत्री सरकार के कार्यों का प्रभारी होता है।वह सरकार के संचालन और निर्देशन करता है।
  • प्रधानमंत्री राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए जिम्मेदार है। वह कानूनों का क्रियान्वयन सुनिश्चित करता है।
  • राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री को नियुक्त करता है लेकिन बर्खास्त नहीं कर सकता हैं वो केवल इस्तीफे का अनुरोध कर सकता है।
  • प्रधानमंत्री सहित फ्रांस की सरकार को नेशनल असेंबली द्वारा बर्खास्त किया जा सकता है।
  • फ्रांस के वर्तमान प्रधानमंत्री गेब्रियल अट्टल (Gabriel Attal) है।

France में राष्ट्रपति का चुनाव भी करती हैं जनता:–

  • फ्रांस में प्रधानमंत्री के चुनाव की तरह ही राष्ट्रपति का चुनाव भी प्रत्यक्ष रूप से जानता के द्वारा ही किया जाता है।
  • यह राष्ट्रपति का कार्यकाल 5 वर्षों का होता है।
  • फ्रांस के कानूनी प्रक्रिया के अनुसार अगर कोई व्यक्ति राष्ट्रपति का चुनाव लड़ना चाहता है तो उसके पास 500 वर्ष का समर्थन और हस्ताक्षर होना जरूरी है।
  • हस्ताक्षर होने के बाद वहां का सुप्रीम कोर्ट इसकी पुष्टि करने के बाद मंजूरी देता है।
  • राष्ट्रपति का चुनाव भी प्रधानमंत्री के चुनाव जैसा ही होता है। इसमें भी पहले चरण का मतदान होता है।
  • यदि राष्ट्रपति पद के किसी उम्मीदवार को 50% वोट मिलता है तो उसकी जीत सुनिश्चित होती है।
  • अगर पहले चरण में किसी भी उम्मीदवार को बहुमत नहीं मिलता है, तो दूसरे चरण का मतदान पहले चरण के सबसे अधिक वोट पाने वाले दो उम्मीदवारों के बीच होता है।
  • फ्रांस में चुनाव आज भी बैलेट पेपर पर होता है और काउंटिंग मैन्युअल तरीके से होती है।
  • फ्रांस के वर्तमान राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों है।
  • फ्रांस में राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री दोनों प्रत्यक्ष रूप से जनता द्वारा निर्वाचित होते हैं इसलिए दोनों मिलकर किसी भी मुद्दे पर फैसले लेते हैं।

France चुनाव के नतीजे चौंकाने वाले:–

 इस बार फ़्रांस के संसदीय चुनाव में चौंकाने वाले नतीजे आए हैं। चुनाव से पहले कुछ लोगों का मानना था कि, फ़्रांस में दक्षिणपंथी पार्टी नेशनल रैली बड़ी जीत दर्ज कर सकती है। लेकिन इस बार वामपंथियों ने बड़ा उलटफेर कर दिया और उनके गठबंधन न्यू पॉपुलर फ्रंट को सबसे अधिक 182 सीटें मिली है। हालांकि किसी भी पार्टी को अकेले दम पर बहुमत नहीं मिला है। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों को इस चुनाव बड़ा झटका लगा है उनकी पार्टी इस चुनाव में 163 सीटों के साथ दूसरे स्थान पर है। वामपंथी न्यू पॉपुलर फ्रंट (NFP) गठबंधन सरकार बनाने की दिशा में सबसे आगे दिख रहा है। हालांकि रास्ता और है जहां से इमैनुएल मैक्रो संसद में अपनी स्थित मजबूत बनाने और धुर दक्षिणपंथी गठबंधन को सत्ता से दूर रखने के लिए अपनी पार्टी के साथ वाम गठबंधन से हाथ मिला सकते हैं। क्योंकि इससे पहले भी वे दक्षिणपंथी गठबंधन को सत्ता से दूर रखने के लिए ऐसा कर चुके हैं।

Explore our courses: https://apnipathshala.com/courses/

Explore Our test Series: https://tests.apnipathshala.com/

Download RNA PDF: https://apnipathshala.com/rna-real-news-and-analysis-08-july-2024/

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top