Apni Pathshala

ऑपरेशन इंद्रावती

हैती में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए ऑपरेशन इंद्रावती 21 मार्च 2024 को शुरू किया गया। भारत सरकार इस ऑपरेशन की बारीकी से निगरानी कर रही है। विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने ट्विटर पर कहा कि भारत सरकार हैती में फंसे भारतीयों की सुरक्षा और भलाई के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है।

हैती एक कैरिबियन देश है जो कीस और डोमिनिकन गणराज्य के दक्षिण में स्थित है। इसकी राजधानी पोर्ट-ऑफ-प्रिंस है और यहाँ की आधिकारिक भाषा फ्रेंच है। हैती की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि पर आधारित है।

हैती में पिछले कुछ समय से हिंसा और अशांति बढ़ रही है। इस कारण वहां फंसे भारतीयों की सुरक्षा खतरे में थी। भारतीय वायु सेना के विमानों से भारतीयों को हैती से डोमिनिकन गणराज्य ले जाया जा रहा है। डोमिनिकन गणराज्य से उन्हें भारत लाया जाएगा। भारतीय दूतावास हैती में फंसे भारतीयों से संपर्क कर रहा है और उन्हें निकालने में मदद कर रहा है। 22 मार्च 2024 तक, ऑपरेशन इंद्रावती के तहत 12 भारतीयों को हैती से निकाला गया है। यह ऑपरेशन तब तक चलेगा जब तक कि सभी भारतीयों को हैती से सुरक्षित निकाल नहीं लिया जाता।

4 हजार कैदियों के फरार होने के कारण हिंसा बढ़ी 
कैरेबियाई देश हैती में मार्च की शुरुआत से ही हिंसा हो रही है। 29 फरवरी 2024 को देश में मौजूद क्रिमिनल गैंग के लोगों ने कई सरकारी संस्थानों में हमले कर दिए थे। उन्होंने जेल पर हमला किया था, जिसके बाद 4 हजार कैदी फरार हो गए। ये हथियारबंद लोग देश के कई हिस्सों में आगजनी कर रहे हैं, दुकानों घरों में तोड़फोड़ कर रहे हैं।

Scroll to Top