Apni Pathshala

Global Hepatitis Report, 2024

ग्लोबल हेपेटाइटिस रिपोर्ट, 2024

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा 9 अप्रैल 2024 को जारी ग्लोबल हेपेटाइटिस रिपोर्ट, 2024 में भारत वायरल हेपेटाइटिस, विशेष रूप से हेपेटाइटिस B एवं C संक्रमण का सामना करने वाले देशों में से एक के रूप में सामने आया है।

वैश्विक हेपेटाइटिस रिपोर्ट, 2024 में चिंताजनक आंकड़े सामने आए हैं। 187 देशों के डेटा से पता चलता है कि वायरल हेपेटाइटिस से होने वाली मौतों की संख्या लगातार बढ़ रही है। हर दिन 3500 लोगों की मृत्यु इस बीमारी से हो रही है, जो प्रति वर्ष 1.3 मिलियन मौतों के बराबर है।

रिपोर्ट के मुख्य बिंदु:

  • हेपेटाइटिस B और C से संक्रमित लोगों की संख्या 296 मिलियन है।
  • हेपेटाइटिस B से 960,000 मौतें हुईं, जबकि हेपेटाइटिस C से 380,000 मौतें हुईं।
  • निम्न और मध्यम आय वाले देशों में 90% से अधिक हेपेटाइटिस B और C के मामले पाए जाते हैं।
  • हेपेटाइटिस B के टीके से बचाव और हेपेटाइटिस C के लिए प्रभावी उपचार उपलब्ध हैं।

हेपेटाइटिस क्या है?

हेपेटाइटिस लीवर की सूजन है। यह आमतौर पर वायरस के संक्रमण की वजह से होता है, लेकिन यह फैटी लीवर, शराब का सेवन, रसायन, कुछ दवाएं और रोग प्रतिरोधक क्षमता में कमी के कारण भी हो सकता है।

हेपेटाइटिस के प्रकार –

हेपेटाइटिस के 5 प्रकार हैं – हेपेटाइटिस A, B, C, D और E – जिनमें से प्रत्येक एक अलग वायरस के कारण होता है, फैलने का तरीका और बीमारी की गंभीरता भी अलग-अलग होती है।

हेपेटाइटिस A –

  • हेपेटाइटिस A का संक्रमण दूषित भोजन या पानी के सेवन से होता है, जो लीवर में सूजन और जलन पैदा करता है।
  • यह एक अल्पकालिक बीमारी है जिसके लक्षण कई हफ्तों तक रह सकते हैं।
  • ज्यादातर संक्रमित लोग पूरी तरह से ठीक हो जाते हैं और उन्हें हेपेटाइटिस A के खिलाफ lifelong immunity मिल जाती है।

हेपेटाइटिस B

  • दुनिया भर में हेपेटाइटिस B लीवर का सबसे आम संक्रमण है।
  • हालांकि कुछ संक्रमित लोग पूरी तरह से ठीक हो जाते हैं और उन्हें इस बीमारी से lifelong immunity मिल जाती है, लेकिन बहुत से लोगों में क्रोनिक हेपेटाइटिस B हो जाता है।
  • यह एक दीर्घकालिक स्थिति है जो लीवर में गंभीर जटिलताएं पैदा कर सकती है जैसे लीवर सिरोसिस (scarring) और लीवर कैंसर।
  • सिंगापुर में हेपेटाइटिस B बहुत आम है और वहां लगभग 4% लोग हेपेटाइटिस B के वाहक हैं।

हेपेटाइटिस C –

  • हेपेटाइटिस C संक्रमण क्रोनिक लीवर रोग होने का कारण बनता है।
  • ज्यादातर संक्रमित लोगों को पता नहीं चलता कि वे संक्रमित हैं या वे वायरस को अपने शरीर से खत्म नहीं कर पाते हैं, जिसके कारण उनके लीवर को लगातार नुकसान पहुंचता रहता है।
  • हेपेटाइटिस B की तरह, हेपेटाइटिस C भी क्रोनिक हेपेटाइटिस, लीवर सिरोसिस, लीवर फेलियर और लीवर कैंसर का कारण बन सकता है।

हेपेटाइटिस D –

  • हेपेटाइटिस D, हेपेटाइटिस B वायरस (HBV) के संक्रमण की वजह से होने वाली जटिलता है और यह केवल उन्हीं लोगों को हो सकती है जो पहले से ही HBV से संक्रमित हैं।
  • इससे लीवर की अधिक गंभीर बीमारी हो सकती है।

हेपेटाइटिस E –

  • हेपेटाइटिस E आमतौर पर एक्यूट (अचानक तेज) होता है और दूषित पानी और भोजन के माध्यम से फैलता है।
  • यह विकासशील देशों में ज्यादा पाया जाता है और आमतौर पर अपने आप ठीक हो जाता है।

वायरल हेपेटाइटिस के लक्षण

सभी को जिसको वायरल हेपेटाइटिस होता है उनमें लक्षण दिखाई नहीं देते हैं, कुछ लोगों में दिखाई दे सकते हैं।

कुछ संभावित लक्षण:

  • पेट दर्द या परेशानी
  • गहरा पेशाब
  • भूख कम लगना
  • बुखार
  • पीलिया (आंखों और त्वचा का पीला होना)
  • थकान
  • मितली और चक्कर आना
  • शरीर में सूजन
  • पतला मल

वायरल इंफेक्शन के प्रकार और व्यक्ति के स्वास्थ्य के आधार पर लक्षण तीव्र या दीर्घकालिक हो सकते हैं। तीव्र लक्षण अचानक शुरू होकर कुछ हफ्तों या महीनों में ठीक हो सकते हैं। दीर्घकालिक लक्षण धीरे धीरे लंबे समय तक रह सकते हैं और लीवर को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

वायरल हेपेटाइटिस कैसे फैलता है?

हेपेटाइटिस का प्रकार अलग है तो फैलने का तरीका भी अलग है:

हेपेटाइटिस A

हेपेटाइटिस A वायरस (HAV) आमतौर पर दूषित भोजन से फैलता है, जैसे:

  • गंदे पानी में पाले गए शंख (shellfish) खाने से
  • संक्रमित व्यक्ति के मल से दूषित खाने-पीने की चीजों या किसी चीज को छूने से
  • खराब साफ-सफाई वाले इलाकों में जहां लोग शौचालय का सही इस्तेमाल नहीं करते वहां रहने से
  • संक्रमित व्यक्ति के खून, ड्रग्स के इस्तेमाल करने से

हेपेटाइटिस B

हेपेटाइटिस B वायरस (HBV) आमतौर पर खून से फैलता है, और यह वीर्य और योनि स्राव में भी पाया जा सकता है। हेपेटाइटिस B का संक्रमण इन तरीकों से हो सकता है:

  • संक्रमित माँ से बच्चे को जन्म के समय
  • संक्रमित व्यक्ति के साथ असुरक्षित यौन संबंध बनाने से या कई लोगों के साथ यौन संबंध बनाने से
  • नशीली दवाओं के इंजेक्शन लगाने वाली सुइयों को दूसरों के साथ शेयर करने से
  • गलती से सुई लग जाना, एक्यूपंक्चर कराना या शरीर पर छेद कराने (body piercing) जैसी किसी भी चीज से जहां दूषित खून आपके खून में चला जाए

हेपेटाइटिस C

हेपेटाइटिस C वायरस (HCV) भी खून से फैलता है, यानी संक्रमित व्यक्ति के खून या शरीर के तरल पदार्थ के संपर्क में आने से फैलता है। यह इन तरीकों से हो सकता है:

  • नशीली दवाओं के इंजेक्शन लगाने वाली सुइयों, सीरिंज या अन्य चीजों को दूसरों के साथ शेयर करने से
  • टैटू, बॉडी पियर्सिंग या किसी और चीज के लिए दूषित उपकरणों का इस्तेमाल करने से
  • संक्रमित व्यक्ति के साथ असुरक्षित यौन संबंध बनाने से
  • संक्रमित माँ से बच्चे को जन्म के समय

हेपेटाइटिस D

  • हेपेटाइटिस D केवल उन्हीं लोगों को हो सकता है जो पहले से ही हेपेटाइटिस B वायरस (HBV) से ग्रस्त हैं।
  • हेपेटाइटिस D उन्हीं माध्यमों से फैलता है जिनसे हेपेटाइटिस B फैलता है।

हेपेटाइटिस E

  • दूषित भोजन या पानी के सेवन से होता है।
  • हेपेटाइटिस A फैलने के तरीकों से मिलता-जुलता है।

वायरल हेपेटाइटिस का खतरा ज्यादा किन लोगों को होता है?

आपको वायरल हेपेटाइटिस होने का ज्यादा खतरा हो सकता है अगर आप:

  • नशीली दवाओं को सीधे नसों में इंजेक्ट करकेलेते हैं।
  • संक्रमित लोगों के साथ सुइयां, बॉडी पियर्सिंग के उपकरण या रेजरजैसी चीज़ें शेयर करते हैं।
  • बिना सुरक्षा के यौन संबंध बनाते हैं(जैसे कंडोम इस्तेमाल न करना या एक से ज्यादा पार्टनर होना)
  • गंदी जगहों पर रहते हैं या घूमने जाते हैं(जहां साफ पानी नहीं मिलता, कच्चा सीफूड खाया जाता है या दूषित खाना खाया जाता है)
  • सफाई का ध्यान नहीं रखते हैं(जैसे शौचालय जाने के बाद या डायपर बदलने के बाद अच्छे से हाथ नहीं धोते हैं)
  • ऐसे डॉक्टरी उपकरणों के संपर्क में आते हैं जिन्हें ठीक से साफ नहीं किया गया हो।

उपचार न कराने पर वायरल हेपेटाइटिस गंभीर हो सकता है और क्रोनिक हेपेटाइटिस बन सकता है-

इससे कई तरह की जटिलताएं पैदा हो सकती हैं, जैसे:

  • लिवर कोशिकाओं को नुकसान पहुंचना और मरना (लिवर नेक्रोसिस)
  • लिवर में घाव के निशान बनना जिससे लिवर की कार्यक्षमता कम हो जाती है (लिवर फाइब्रोसिस) या सिरोसिस (लिवर पर बहुत ज्यादा घाव के निशान)
  • लिवर फेलियर (लिवर काम करना बंद कर देना)
  • लिवर कैंसर
  • पोर्टल उच्च रक्तचाप (पेट की नसों में रक्तचाप का बढ़ जाना)
  • उल्टी या मल में खून आना
  • शरीर में पानी जमा होना (जलबिंब)
  • पीलिया (आंखों और त्वचा का पीला पड़ना)
  • बैक्टीरिया से संक्रमित होने का खतरा बढ़ जाना

वायरल हेपेटाइटिस से कैसे बचें?

हेपेटाइटिस A और B के लिए टीका लगवाकर बचा जा सकता है। इसके अलावा, आप इन सावधानियों को अपनाकर वायरल हेपेटाइटिस के खतरे को कम कर सकते हैं:

  • अच्छी साफ-सफाई बनाए रखें (जैसे, साबुन और पानी से अच्छे से हाथ धोना)।
  • यौन सम्बन्ध के दौरान निरोध का प्रयोग करें (अगर आप अपने पार्टनर को नहीं जानते हैं या उन्हें हेपेटाइटिस B या C है या आपके कई पार्टनर हैं)।
  • नसों में इंजेक्शन लगाकर नशीली दवाओं का सेवन न करें।
  • संक्रमित व्यक्ति के साथ सुई या उनकी कोई निजी चीजें शेयर न करें।
  • टैटू, बॉडी पियर्सिंग या एक्यूपंक्चर करवाते समय सावधानी बरतें और सुनिश्चित करें कि उपकरण ठीक से नि‍जर्मित हों।
  • खराब साफ-सफाई वाले इलाकों में जाने पर सिर्फ उबला हुआ या पैकेटबंद पानी पिएं और अच्छी तरह से पका हुआ खाना ही खाएं।

भारत में हेपेटाइटिस की स्थिति:

  • व्यापकता:
    • भारत में अनुमानित 2.9 करोड़ लोग हेपेटाइटिस B से तथा 0.55 करोड़ लोग हेपेटाइटिस C से संक्रमित हैं।
    • वर्ष 2022 में भारत में 50,000 से अधिक नए हेपेटाइटिस B मामले एवं हेपेटाइटिस C के 1.4 लाख नए मामले सामने आए।
    • इन वायरल हेपेटाइटिस संक्रमणों से वर्ष 2022 में भारत में 1.23 लाख लोगों की मृत्यु हो गई।
  • संक्रमण के कारक:
    • हेपेटाइटिस B तथा C दोनों संक्रमण विभिन्न माध्यमों से फैलते हैं, जिनमें माँ से बच्चे में संचरण, असुरक्षित रक्त संक्रमण, संक्रमित रक्त के साथ संपर्क एवं दवा उपयोगकर्त्ताओं के बीच सुईयों का लेनदेन करना शामिल है।
    • माँ से बच्चे में हेपेटाइटिस B का संचरण भारत में संक्रमण का प्राथमिक माध्यम बना हुआ है।
  • निदान और उपचार कवरेज:
    • भारत में हेपेटाइटिस B के केवल 2.4% मामलों और हेपेटाइटिस C के 28% मामलों का ही निदान किया जाता है।
    • हेपेटाइटिस B के लिये 0% तथा हेपेटाइटिस C के लिये 21% उपचार कवरेज और भी कम है।
  • सुधार में बाधाएँ:
    • राष्ट्रीय वायरल हेपेटाइटिस नियंत्रण कार्यक्रम की सीमित पहुँच और उपयोग।
    • किफायती निदान और उपचार सेवाओं तक पहुँच का अभाव।
    • बीमारी के चरण की परवाह किये बिना, सभी निदान किये गए व्यक्तियों का उपचार करने की आवश्यकता।

वैश्विक स्तर पर:

  • मृत्यु दर:
    • वायरल हेपेटाइटिस के कारण वर्ष 2022 में वैश्विक स्तर पर अनुमानित 1.3 मिलियन मौतें हुईं।
    • 83% मौतें हेपेटाइटिस B और 17% हेपेटाइटिस C के कारण हुईं।
    • लिवर कैंसर एवं हेपेटाइटिस के कारण होने वाली मौतों में वृद्धि।
  • नए संक्रमण:
    • नए वायरल हेपेटाइटिस संक्रमणों की संख्या वर्ष 2019 में 2.5 मिलियन से घटकर वर्ष 2022 में 2.2 मिलियन हो गई।
  • व्यापकता:
    • वर्ष 2022 में अनुमानित कुल 304 मिलियन लोग हेपेटाइटिस B और C से पीड़ित थे।
    • 254 मिलियन लोग हेपेटाइटिस B से और 50 मिलियन लोग हेपेटाइटिस C से पीड़ित थे।
    • 12% बच्चे हेपेटाइटिस B से पीड़ित थे।
  • परीक्षण और उपचार में बाधाएँ:
    • फंडिंग की कमी और सीमित विकेंद्रीकरण।
    • जेनेरिक दवाओं की उच्च कीमतें।
    • कुछ देशों में पेटेंट संबंधी बाधाएँ।

चुनौतियां:

  • रोगियों की पहचान में कमी: हेपेटाइटिस B और C के कई रोगियों को पता ही नहीं होता कि वे संक्रमित हैं।
  • उपचार तक पहुंच में कमी: कई रोगियों को टीकों और उपचारों तक पहुंच नहीं है।
  • जागरूकता की कमी: हेपेटाइटिस B और C के बारे में जागरूकता की कमी है, जिसके कारण रोकथाम और उपचार में देरी होती है।

आगे का रास्ता:

  • रोगियों की पहचान बढ़ाने के लिए प्रयास: रक्त परीक्षण और स्क्रीनिंग कार्यक्रमों को बढ़ावा देना।
  • उपचार तक पहुंच बढ़ाना: टीकों और उपचारों की सस्ती और सुलभ उपलब्धता सुनिश्चित करना।
  • जागरूकता बढ़ाना: हेपेटाइटिस B और C के बारे में लोगों को शिक्षित करना।

निष्कर्ष:

वैश्विक हेपेटाइटिस रिपोर्ट, 2024 हेपेटाइटिस के खतरे को उजागर करती है। हमें इस बीमारी से निपटने के लिए ज़्यादा प्रयास करने होंगे। रोगियों की पहचान बढ़ाना, उपचार तक पहुंच बढ़ाना और जागरूकता बढ़ाना महत्वपूर्ण कदम हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO)

·       स्थापना: 7 अप्रैल 1948

·       मुख्यालय: जिनेवा, स्विट्जरलैंड

·       सदस्य देश: 194

·       महानिदेशक: डॉ. टेड्रोस एडहेनॉम घेब्रेयस

·       लक्ष्य: सभी लोगों के लिए उच्चतम स्तर का स्वास्थ्य प्राप्त करना

WHO के कार्य:

  • रोगों का नियंत्रण और रोकथाम
  • मातृ एवं बाल स्वास्थ्य
  • पोषण
  • मानसिक स्वास्थ्य
  • गैर-संक्रामक रोग
  • आपातकालीन स्वास्थ्य

FAQ’s

Q. हेपेटाइटिस क्या है?
उत्तर: हेपेटाइटिस वायरस या अन्य कारणों से लीवर में होने वाली सूजन है।

Q. लीवर क्या करता है?
उत्तर: लीवर आपके शरीर के लिए आवश्यक महत्वपूर्ण प्रोटीन बनाने के लिए जिम्मेदार है। लीवर एक फिल्टर के रूप में काम करता है और शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है। लीवर प्रतिरक्षा प्रणाली का हिस्सा है। पाचन में शामिल रसायनों के उत्पादन और स्वस्थ रक्त बनाने में भी लीवर की भूमिका होती है।

Q. यकृत कहाँ स्थित है?
उत्तर: लीवर पेट के दाहिनी ओर पसलियों के नीचे स्थित होता है। यह लगभग एक फुटबॉल के आकार का है.

Q. आपको हेपेटाइटिस ए वायरस (एचएवी) कैसे होता है?
उत्तर: एचएवी एचएवी-संक्रमित मल पदार्थ या मल (थोड़ी मात्रा में भी) के अंतर्ग्रहण से, एचएवी-संक्रमित व्यक्ति के साथ करीबी व्यक्ति-से-व्यक्ति संपर्क से, एचएवी-संक्रमित व्यक्ति के साथ यौन संपर्क या अंतर्ग्रहण या दूषित वस्तुओं के संपर्क से फैलता है।

Q. आपको हेपेटाइटिस सी वायरस (एचसीवी) कैसे होता है?
उत्तर: एचसीवी तब प्रसारित होता है जब एचसीवी से पीड़ित व्यक्ति का रक्त किसी अन्य व्यक्ति के रक्तप्रवाह में प्रवेश करता है। यह दूषित सुइयों या अन्य इंजेक्शन उपकरणों को साझा करने, इंट्रानैसल कोकीन को स्ट्रॉ साझा करने, या 1992 से पहले रक्त आधान या 1987 से पहले रक्त उत्पाद प्राप्त करने के माध्यम से हो सकता है।

PYQ’s

Q. हेपेटाइटिस है-
(A) प्रोटोजोआ रोग
(B) कवक रोग
(C) बैक्टीरियल रोग
(D) वायरल रोग
उत्तर : (D) वायरल रोग

Q. हेपेटाइटिस एक बीमारी के लिए सामान्य शब्द है जो निम्नलिखित में से किसके कारण होता है?
(A) विषाणु
(B) जीवाणु
(C) परजीवी
(D) उपरोक्त सभी
उत्तर : (B) जीवाणु

Q. हेपेटाइटिस B, एक संचारी रोग, मुख्य रूप से निम्नलिखित में से किस अंग को संक्रमित करता है?
(A) हृदय
(B) फेफड़े
(C) यकृत
(D) मस्तिष्क
उत्तर : (C) यकृत

Q. हेपेटाइटिस-सी के संबंध में निम्नलिखित में से कौन सा कथन सही है/हैं?
1. हेपेटाइटिस सी हेपेटाइटिस वायरस के एक समूह का हिस्सा है जो वृक्क पर हमला करता है।
2. यह मानव मल पदार्थ के माध्यम से फैलता है।
(A) केवल 1
(B) केवल 2
(C) 1 और 2 दोनों
(D) न तो 1 और न ही 2
उत्तर : (D) न तो 1 और न ही 2

Q. हेपेटाइटिस बीमारी के बारे में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
हेपेटाइटिस सी वायरस के पुराने संक्रमण से यकृत सिरोसिस हो सकता है।
हेपेटाइटिस सी वायरस के संक्रमण आमतौर पर स्पर्शोन्मुख होते हैं।
हेपेटाइटिस सी मां के दूध, भोजन, पानी या अनौपचारिक संपर्क करने से नहीं फैलता।
ऊपर दिए गए कथनों में से कौन सा/से सही है/हैं?
(A) केवल 1 और 2
(B) केवल 1 और 3
(C) ​1, 2 और 3
(D) केवल 2 और 3
उत्तर : (C) 1, 2 और 3

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top